Page 1
आरत उहुँत्ल[यष्टिहुँ७
८3३६2 (छद्यदुयांदृप्ट तो' हुँम्नर्णछि
स…नंड्डा 341 नंहैँ ,शूव्रल्याद्वा जनवरी 27, 2०१2/माध 7, 1933
श्या 341 द्रभख्या/ 1981111, मारश्याक्या, फैक्याख्याप्ता/ 27, 20।2/क्या^6प्त^ 7, 1933
वित्त मत्रम्लय'
( व्यय विभाग )
(महालेखा नियत्रक' )
प्रायोजना
नई दिल्ली, 24 जनवरी, 3012 ' .
सा-कांनि- 53(_अ)-… राष्ट्रपति, संविधल के अनुच्छेद 309 के परतुक्त' द्वारा प्रदत्त शक्तियों का
प्रयोग काते हुए और के-ब्रीय सिविल लेखा सेवा (स्टाफ़ बार ड्राइवर) (समूह 'ग' भर्ती सिम, 200 ।
को जहाँ तक उनका संबधि स्टाफ कार ड्राझ्वर से है, उन बातों के सिखाए अधिक्रात्त" करते हुए, जिन्हे'
ऐसे अधिक्रमण से पूर्व किया गया है या करने का लोप किया गया है, केन्दीय सिविल लेखा सेवा में
स्टाफ कार ड्राइवर के पद पर भर्ती की पद्धति का विनियमन काने के लिए निम्नलिखित नियम बनाती
हैं, अर्थात.'-
1 ॰ संक्षिप्त नाम और प्रांरभ' भी ( । ) इन नियमों का संक्षिप्त नाम केद्रीय सिविल लेखा सैचा
(स्टाफ कार ड्राझ्वर, समूह ' था है पद) भर्ती नियम, 20 श्व 0 है ।
(2) ये राजपत्र में प्रकाशन की. तारीख को प्रवृत्त होंगे ।
2. परिभाषाएं - इन नियमों में जब तत् कि संदर्भ से अन्यथा अपेक्षित न हो है -
(का "नियुक्ति प्राधिकारी'' का वही अर्थ' होगा जो केन्दीय सिविल सेवा" (वर्गीजस्था,
नियन्त्रण और अपील) नियम, । 965 में समनुदेशित है;
2 8 7 (.1/2 0 1 2 ( 1 )

Page 2
(ख) "काडर" से स्टाफ कार ड्राइवर का काडर अभिप्रेत है । प्रत्येक मत्रालय३ के पास स्टाफ. . .
कार ड्राइवर का स्वयं पृथक और स्वत्तत्र'ष काडर होगा जो स्टाफ कार ड्राइवर की
अपनी-अपनी श्रेणी में इन नियमों के उपाबंध में यथाविनिर्दिष्ट पदों की कुल संख्या
से समाविष्ट होगा; .
(ग) "सरक्तार' ' से भारत सत्कार' अभिप्रेत है;
(घ) "आयोग" से कर्मचारी चयन आयोग या इन नियमों के अत्तात्ति' काडरों के लिए अन्य
" भर्ती अभिकरण अभिप्रेत है, जिसको सरकार गठन का सबेल्पी;
(ङ) . "महालेखा नियन्त्रक'' से व्यय विभाग, वित मत्रालय' में महालेखा" नियन्त्रक अभिप्रेत
है, जिसमें हम नियमों के अमीन शक्तियों का प्रयोग काने के लिए महालेखा'
नियंत्रक द्वारों प्राधिकृत है जिसमें अपर महालेखा नियत्रक' या संयुक्त महालेखा
_ नियंत्रक या उप महालेखा नियत्रक' या सहायक महालेखा 'नेयवक३ सम्मिलित है ।
(च) "मत्रात्स्य'" स्ने भारत सरकार का भक्ता' अभिप्रेत है और इसमें इन नियमों के
उगाबधि में विनिदिष्टि मत्रात्नय' के विभाग या कार्यालय सम्मिलित हैं; '
(छ) "अनुसूची" से इन नियमों से उपाबद्ध अचुर्ट्स अभिप्रेत हैं;
(ज) "खेवा" है से केन्दीय सिविल लेखा सेवा' (समहक्रि 'फ्रंग') अभिप्रेत हैं;
जि) …"सगठित्त३ लेखा स्नेचा" में सरकार के लेखा और संपरीक्षा विभागो, रक्षा लेखाओं,
रेल लेखाओं, डाक और टेलीग्राफ लेखा में लेखा खेवा और टेलीकाम' लेखा
सम्मिलित हैं । ३
_ फ्त-सख्या, वर्गक्तिस्पा और वेतनमान : उवत्त पदों की संख्या, उनका वर्गीकरण और
उनके वेतनमान वड /वे हणि, जो इन' नियमों से उपबद्ध अनुसूची के स्तंभ 2 से स्तंभ 4 में
विनिर्दिष्ट हैं ।
भर्ती पद्धति, आयु-ड और मय अर्हताएं आदि : स्का पदों पर भर्ती ,की
पद्धति, भा-सीमा और अन्य अर्हताएं और उनसे संबंधित अन्य बाते वे होंगी जो पूर्वीबत्त/
उक्त अनुसूची के स्तंभ 5 से स्तंभ । 4 में विनिर्दिष्ट हैं है
स्थानांतरण' - ( । ) स्टाफ़ कार ड्राइवर भारत के किसी भाग में स्नेबा करने के लिए दायी
होगा' ।
(2) महालेखा नियन्त्रक का यदि समाधान हो जाता है कि लोकहित में ऐसा करना अनावश्यक
या समाचीन है…तो वह आदेश द्वारा और कारण लेखवद्ध करके अधिकारी द्वारा अनुरोध किए
जाने पर उसी श्रेणी में एक मत्रात्नय' से दूसरे में (द्यानातिरयों का दिया जाएगा ।

Page 3
निरर्हता -
_ भारत, का राजपत्र : असाधारण
6 .
(का जिसने ऐसे व्यक्ति जिसका पति या जिसकी पत्सी जीवित हैं, विवाह किया है, या
(ख) जिसने अपने पति या अपनी पत्नी के जीवित रहते हुए किसी व्यक्ति से विवाह किया
है
. उक्त पद पर नियुक्ति का पात्र नहीं होगा;
" परन्तु यदि केन्दीय सरकार का यह समाधान हो जाता है कि ऐसा विवाह ऐसे व्यक्ति .
और विवाह के अन्य पक्षकार को लागु, स्वीय विधि के अमीन अनुज्ञेय है और ऐसा करने के लिए
अन्य आधार हैं तो बह किसी व्यक्ति क्रो इस नियम के प्रवर्तन से छुट है सकेगी ।
7. शिथिल कस्मे क्री शवित्त : जहाँ केन्दीय सरकार की यह राय है कि ऐसा करना
आवश्यक या समीचीन है, वहीं यह उसके लिए जो कास्या है उन्हे' लैखबद्ध काके, इन नियमों के
_ किमी उपबधि को' किसी वर्म या प्रवर्ग के व्यक्तियों की बाबत, आदेश द्वारों शिथिल कर सकेगी ।
8. 'ब्या‘वृत्ति : इन नियमों की की बात ऐसे आरक्षण, आयु-भीमा में छूट और अन्य
रियायतों पर प्रभाव नहीं डालेगी, जिनका केन्तीय सरकार द्वारा इस संबधि में भव-ममय यर निकाले
गए आदेशों के अनुसार अनूस्तु'चेत्त जातियों, अनुक्तूचिंत्त जनजातियों, भूतपूर्व सैनिकों और अन्य
पिछडे वनों के व्यक्तियों के लिए उपबंध बरना अपेक्षित है ।

Page 4
3
[भिमा रिथ्यक्ति. 303]
_ क्याहँ द्विहूँक्ल ड्डटेह्म क्या हुँ
हुं हिं हूँ हैं… हूँ हैं… हिं हैं हुँ हैं
क्त हैं हुँ हैं प्री… प्री हैं छ हूँ इ
५ म्भहुं
क्त? ण्डहूँहुक्ल हूँ क्त
हूँ ८७ प्नक्ल हुं हैं हुं क्योंश्र्वर्डि हुं अं… हुं
हैं हूँहूँ हैं हूँक्ल दुहुँ र्खास्थ्य हूँ…क्लहु
हुँ …हुं श्रेफ़ष्ठ हिं हैं हूँ हिं क्वें… म्भ _ हैं…ह्मा हैं
हूँ हैं स्ट… हूँ हूँ क्य हैं हैं हूँ क्या हैं ड्डि
श्र्वहुँ हूँ क्तहुँढ
क्लहुँर्वि हुँ इहुँ
ण्डहूँड्डिढडेहूँक्लहुंहुहूँक्लहूँ. टेढे… क्वे क्लहैंहृड्ड हैं
एँहुँइहूँड्डिट्टहें.हैंड्डिहुंहूँ७ है हूँह्माध्दण्ड हैंछंक्वा. हुँ
र्पिंक्लक्लणुडि क्टह्महैं ठेठेहँन्तिच्चा हुँ 853 हूँ
न्हेंड्डाहुँक्यान्हहूँ हुँ . कि र्डिहु.…
५. ७ ७ चं त्मा छा …
. स्तम्भ
छच्छास्वक्लत्माष्ठहूँ
झ…व्हिहुँक्लम्भहँ
.हुँर्टिंज्जष्टपिंक्या हँहुं हूँ
. हूँहूँहुँ हुं चिंश्र्वक्यश्याक्या .
हँहैंड्डक्लहुढक्लज्जह्माढहूँहँहँ छट्वेंइक्याड्डहँ हैं ऊँश्र्वश्चिहिंक्ल हूँ हुंक्तट्वें हैंहूँ
है

Page 5
भारत जाराजपज : असाधारण
[भाग ।!……खण्ड प्रा)]
स्थाध्याश्याक्ल हा ग्लानं हा
… ट्वेंज्जहुंहूँक्लहुँहूँहूँहूँहूँ ८… . ]
क्या …हुंज्जहूँक्वा७ण्डछहूँद्धिहूँड्डीहैंहूँफ़हेंक्लहिंहुँद्धि
कि श्र्वहुँहूँहुंड्डिहड्डिड्डक्लहुँहिंहूँष्ठिण्डहूँहैंट्वेंहैंऊँहुँ
… ड्डिक्लिहूँहृहुँऊँ स्थिक्वहँ स्मिड्डज्जस्थि क्लज्जन्हेंहुँज्जह्माहूँज्जहूँ
क्या क्तह्नश्चिण्डहुंहूँर्विष्टहूँहँक्लहुँश्वज्जहिंहुँ-हूँछड्डहूँ हां
" …
हूँ हें प्री ८ हैं र्डि ण्ड क्या ड्डि हूँहुँत्का हुँ की हु हैं… ७.… हुँ हुँ
ज्जहूँश्चट्विहुँष्टश्र्वहुंहेंट्सहुँहुँट्टहुक्लड्डाहुंक्लहैंहूँ हूँहुँहूँ
_ ड्डिहुँहूँक्लड्डिहँहहुँज्जहुंट्वेंहैंक्लहूँहूँहुँण्डहूँर्डिश्र्वश्न क्लड्डहूँडिंहँहूँट्टहूँ
श्या ण्डहैंहूँहृश्चाऊँहूँहँहुँक्लहूँश्चिक्लहूँ-हूँज्जहूँ .… क्लहँहूँहूँज्जहुँ
छा… . ५ ८
शा हूँक्लड्डि
, . हैंहुंहूँ५हुँज्जर्डिं
श्च हैं हूँ हूँरूहुँहूँ हैं हुं क्व ड्डि हैं… क्त हैं हैं हुँ५हूँहूँ हूँ ८… हैं हैं हैं. "हैं क्त हैं
खेंफ्रैं. .
श्र हूँज्जहूँक्यष्णएँहुँहूँहुँहु ०८७
श्र्वप्नस्ताछर्मिंश्र्वग्यप्रिंर्डिहिंज्जखिंकिंम्भश्यक्टहिंशांहिं ८३
, ह्महूँज्जश्र्वहूँहिंण्डज्जह्माक्तहू
फारुक्वेक्लड्डिहँहैंक्लहुंदृर्डिछहुंश्र्वश्व हैं .
द्धक्ल हूँश्र्वड्डादृ श्र्वड्डिहूँहूँहूँहूँज्जड्डिक्रकिंउ-हुँ
ठ: टे हूँ
ऊँपृड्डा
द्भुहैंस्मिहेंण्डहुढहूँ
हुँण्डह्रन्हुँछछहूँ क्लड्डष्ठक्लज्जगृरूएँक्टहुँक्त हुँहुऊँहूँहूँहूँक्लहूँड्डिर्डिहूँडेहूँ
, . ३५ .
रू

Page 6
[भाग 1पखण्ड 36)]
की ही..
हूँ … क्या हुं
हूँ र्धिर्टिक्ट हुँ
अं ठेज्यम्भ हूँ . . इ हुँ
र्दिक्ल ह्माफा दे. हैं क्लहैंमृकिंकृ
, एँ… ठेठेम्भ र्जिक्य चंहु
हैं क्लड्डाहैं . कि हुं दैट्स… , हुँ ठठध्द हुँ हैं
. … पंश्याक्लर्टिक्ल हुँ है हिं हु सां
नि ७ पा १ क्या . ला …
भारत का स्का
न्हेंक्लहैं
… क्या श्कह्मा हैं हुँ हूँ .
त्माज्ज हूँ…क्यभ्य र्वि हूँ हूँ हुं हुँ र्धिक्य ज्जश्र्वक्य र्पिं हुँ
झिक्य हूँ हूँ र्थिक्ति हुँ हुँ श्व… हूँ सिंक्ति ट… ७१ क्त
… क्या हूँ हुँ हुं श्र्वफ़ क्या फाग्द
हूँ…श्चाहैंक्लड्डिहुँक्लह्महूँहुँ हूँहूँ ढ़ क्त.
. हुँहूँ - हूँहूँ
क्त हुं - हुँ हूँ चिं ल्जिफात्वड्स चिंश्य
हैंश्व हुं . क्वें. हैं
स्था …
… क्या क्त हूँ हुँ ढ ७८० ख्वा हैं हुँ हैं हुँ र्डिक्लि द्वि हैं हैं "हूँ
हुं हूँ
… …

Page 7
[ह्यास 11--क्ति० 3031
…मृध्या -म्ल हा हा
स्टश्र्व क्तड्डाहैं श्र्वक्ल क्तड्डिछि श्र्वक्ल श्र्वड्डाहँ
८३ हैं कु
… क्या हुं ८७
हूँ हूँ
छं ठेह्म इ हुँ
र्टिक्ल ह्माम्हा हूँ क्त हूँर्डिगृ
एँ ठेठेम्भ स्ताप्नष्ठ हुँ .. _
. ठेर्मि द्वे. हैं र्खिग्ला ठ 53 चंहु श्र्वत्यत्व .
पिंक्तक्तश्चहूँ श्र्वह्मा हुं र्द्धत्थेश्यम्भत्पण हुँहुँ "कि हिंदु हां
७ ७ ७ पं स्था . म्भ . …
_ क्या स्तम्भ हुँ हुँ र्थिक्ल ट… त्यक्त
हंई त्व हुँ हुँ हृ हुं हैं. हैं ट…क्ल छ हुं
धिक्ल हूँ में हूँ र्थिक्ल हूँ हैं क्त… र्जिक्वाड्डू र्थिक्ल चिं ……… ५.
_ शा हूँ हूँ हूँ हिं सां सिं
हुँ झिक्य शाक्त… क्य हुं ठ्यर्वि ८९५७ हुँ हूँ हूँ द्वि अं
श्र हूँ ' हूँ हुँ
मैं आहें दृ हुँ हूँ हृहूँ थिक्य
नु ७ स्था…
ण हुं हूँ हैं क्या हुँ श्कक्य टेक्य हैं गा हूँ क्व हैं… हैं क्या हुं हैं न्हें स्था. हुँ हूँ क्ष्यछ
५ ८९…. _ .
… क्या…
. ३

Page 8
हैं हंई छ हूँ हुँ हिं हुं स्थिक्ल है त्व हुँ
ज्जिक्ल हूँ छ हूँ हैं हुँ हैं हूँक्लिंक्ल ढ की ०.…
… ख्याहूँहूँहुँ द्वि क्या हैं
ट्विहुंक्टश्र्वद्रश्र्वहूँ हूँहूँ ह्र में
हूँ - दुड्डि र्थिक्य हैं हूँहुँस्क र्थिक्ल हूँ
कू हुँ - हूँ हूँ चिं ह्र…श्र्वक्ट र्पिक्य
शाहु 6९253१५3 21: 119014 : ध्या'प्तिदृप्रेस्थ्यशाक्वीमृ'
हँश्र्वह्महैं ५हूँक्लश्वश्वहुँ..८८हैं
गं … स्था चिं
_ . हैं-. . . डे. … क्या ण्डत्काध्या ८ सिं हैं हैं स्था हुं सिं हुं हुँ र्पिस्थ्यश्या ह्र… हुं हैं… ओहू र्वित्माब्जि हिं हैं हूँ चंहु दु हैं .
हैंहैंट्टहूँ ड्डिहुंहैंहूँहुँह्नह्मज्ज रूहें हैं …… - ड्डर्डिक्लिर्डिहैंहँ ८ हैंश्च हुंण्डक्तश्च

Page 9
छुद्र. ८
आस्त का श्या : क्या
, क्लछज्जक्ष्यहूँल्चन्हेंड्डिहेंहिंहेंच्चाहैंद्विश्र्वर्डिहैंहैं ८ बैश्य ह्रह्मङ्गश्न
ह्म … … …
. ५.
ठ… ७ . . दृ . . ९ . हैं
. हूँ … शा हूँ
हैं र्पिहूँहूँ
ठेझे हुँ ह हुँ
श्याश्र्वष्ण श्याण्ड मे. हूँ . फ… देंमृक्षिज्ज
, _ हैं ठेहैं हैं हैं हुँ
स्टश्र्व क्लह्मा हुं. 5०७… _ हुँ 352 हिं…र्पि
हुं की… हिं… हुँर्च _
७ ० . ७ … .. " ह्म …
.
- 287 (पाहीं 1-2

Page 10
थिर्डिष्टछहूँ चिंह्माहैंड्डन्जिएँठेड्ड … 'त्वा क्यों. अंनु
हैं… क्लड्डाहैं
. … क्या फु" हैं हुँ हुँ
हैं …हूँत्व हूँ हुँ हिं हुँ श्चिक्ल है छ हुँ
थिध्या.. त्माश्मफास्थ र्चि हुँ ड्डिक्ति हुँ हुँ हूँम्लश्चक्ल कि क्त क्या …
,हूँक्लिंक्ति यांहूँएँश्र्वर्पिंक्टहुँ हूँहूँ मू… क्त
क्त मैं हूँ ।
क्त आटु ८ हूँ हूँ दृ रूहुँ र्थिण्ड
५ हूँ ण्डस्कश्व हैं है. हैं
क्या …

Page 11

Page 12

Page 13

Page 14

Page 15

Page 16

Page 17
भारत का राजपत्र : क्या
हुँटेब्जितृ प श्रीद्भपृट्ट

Page 18
दु
स्था
3
ह्या
स्था
गु
त्मा
3:
गु
५८ . ७ ७
ठेह्न 3८० है… ०७८७3
ठेठेप्तठेर्ति र्णम्भ पं ट्ठज्जम्भ हैं…
त्य ठा म्भ
स्प'

Page 19

Page 20